Comments (0) | Like (23) | Blog View (72) | Share to:

चंद्रमा की सतह की खोज के लिए व्हीकल डवलप कर रही है ‘टोयोटा’

‘टोयोटा’ कम्पनी जापान की अंतरिक्ष एजेंसी के साथ मिलकर चंद्रमा की सतह की खोज के लिए एक वाहन पर काम कर रही है। कम्पनी के अधिकारियों ने बताया कि इसका उद्देश्य, 2040 तक लोगों को चंद्रमा पर रहने में मदद करना है और फिर उसके बाद मंगल पर जाने की योजना है।

इस वाहन का नाम टोयोटा की एसयूवी ‘लैंड क्रूजर’ के नाम पर ‘लूनर क्रूजर’ रखा गया है और इसका निर्माण ‘जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी के साथ मिलकर किया जा रहा है। इस वाहन को दशक के अंत तक प्रक्षेपित करने की योजना है। ‘टोयोटा मोटर काॅर्पोरेशन की ‘लूनर क्रूजर’ परियोजना के प्रमुख ताकाओ सातो ने कहा कि जिस प्रकार लोग कार में बैठकर सुरक्षित तरीके से खाना-पीना, काम करना, सोना और बातें कर सकते हैं उसी प्रकार बाहृ अंतरिक्ष में भी किया जा सके, इस परिकल्पना के साथ उक्त वाहन का निर्माण किया जा रहा है।

टोयोटा ने अब तक ग्लैंजा और अर्बन क्रूजर की एक लाख से अधिक यूनिट्स बेची

वाहन निर्माता कम्पनी टोयोटा किर्लोस्कर मोटर  (टीकेएम) ने कहा कि उसके प्रीमियम हैचबैक ग्लैंजा और काॅम्पैक्ट एसयूवी अर्बन क्रूजर की थोक सेल्स का सम्मिलित आंकड़ा एक लाख यूनिट्स के पार हो गया है। टीकेएम इन दोनों वाहनों को मारुति सुजुकी इंडिया के साथ साझेदारी में पेश करती है। इस समझौते के तहत कम्पनी मारुति की बलेनो को ग्लैंजा और विटारा ब्रेजा को अर्बन क्रूजर के ब्रांड नाम से बाजार में बेच रही है। टीकेएम ने एक बयान में कहा कि ग्लैंजा और अर्बन क्रूजर की सम्मिलित थोक सेल्स एक लाख यूनिट्स से अधिक हो चुकी है। जून 2019 में पेश ग्लैंजा की अब तक 65,000 से अधिक यूनिट्स की सेल्स हुई है जबकि सितंबर 2020 में उतारी गई अर्बन क्रूजर की अब तक 35,000 से अधिक यूनिट्स बिक चुकी हैं टोयोटा किर्लोस्कर के सहायक उपाध्यक्ष (सेल्स एवं रणनीतिक विपणन) अतुल सूद ने इस उपलब्धि को ग्राहकों के भरोसे का प्रमाण बताते हुए कहा कि इन दोनों माॅडल के जरिये कम्पनी युवा ग्राहकों को एक बढ़िया अनुभव देने में सफल रही है। टीकेएम देश भर में फैले अपने 418 डीलर आउटलेट की मदद से ग्राहक आधार बढ़ाने की कोशिश कर रही है। इस दौरान दूसरे एवं तीसरे दर्जे के शहरों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

 

 

 

Post a Comment

Your comment was successfully posted!

LOGIN TO E-SERVICES