Comments (0) | Like (37) | Blog View (79) | Share to:

भारत में मैनुफेक्चरिंग शुरु करने के लिये टेस्ला के पास सुनहरा अवसर

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि भारत जिस तरीके से इलेक्ट्रिक व्हीकल्स पर जोर दे रहा है, उसको देखते हुए बिजली से चलने वाली कार बनाने वाली अमेरिकी कम्पनी टेस्ला के लिये यहां प्लांट लगाने के लिये एक सुनहरा अवसर है।

सड़क परिहवन, राजमार्ग और एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम) मंत्री गडकरी ने ‘रायसीना वार्ता’ के एक सत्र को संबोध्ति करते हुए कहा कि टेस्ला भारत की व्हीकल मेन्यूफैक्चरर्स से ऑटो-इक्विपमेंट्स ले रही है और यहां अपना केंद्र स्थापित करना उसके लिये आर्थिक रूप से व्यवहारिक होगा।

मंत्री ने कहा, ’’मैं उन्हें (टेस्ला) सुझाव दूंगा कि भारत में प्लांट शुरू करने का यह सुनहरा अवसर है क्योंकि जहां तक व्हीकल्स के कल-पुर्जों का सवाल है, टेसला पहले से इंडियन मेन्यूफक्चरर्स से इक्विपमेंट्स की खरीद कर रही है।’’ उन्होंने कहा कि इसके साथ टेस्ला के लिये भारतीय बाजार अच्छा होगा।

गडकरी ने भरोसा जताया कि भारतीय उत्पादों में सुधार को देखते हुए अगले दो साल में भारत टेस्ला के स्तर का इलेक्ट्रिक व्हीकल बनाने की स्थिति में होगा।

उन्होंने कहा, ‘‘अतः यह टेस्ला के हित में है। मैं उन्हें सुझाव दूंगा कि आप जितनी जल्दी हो, यहाँ मेन्यूपफेक्चरिंग शुरू कीजिए।’’

मंत्री ने कहा कि जहां तक कहीं और मेन्यूपफेक्चरिंग और भारत में केवल सेल्स की बात है, आप इसके लिये स्वतंत्रा हैं। ‘‘ लेकिन अगर आप यहां मेन्यूपफैक्चरिंग करते हैं, भारत में हम आपकी मदद करेंगे।’’

उन्होंने यह भी कहा कि टेस्ला इंडस्ट्रीयल हब बना सकती है और अपने खुद का वेंडर विकसित कर सकती है।गडकरी ने कहा, ‘‘वे अन्य देशों के मुकाबले यहां से काफी वाहनों को निर्यात कर सकते हैं। यह आर्थिक रूप से उनके लिये व्यवहारिक होगा।’’उन्होंने कहा कि सरकार का ई-व्हीकल्स पर विशेष जोर है।

मंत्री ने कहा कि शुरूआती चरण में टेस्ला बेंगलुरू, दिल्ली और मुंबई से विपणन शुरू करना चाहती है।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि भारत में अगले पांच साल में ई-वाहन क्षेत्र में दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक देश बनने की क्षमता है।

Post a Comment

Your comment was successfully posted!

LOGIN TO E-SERVICES