Comments (0) | Like (21) | Blog View (65) | Share to:

विदेशी पर्यटकों का पसंदीदा स्थल

गुरुद्वारा बंगला साहिब

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सिखों का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल गुरुद्वारा बंगला साहिब आत्मिक शांति की तलाश में भारत आए अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों के लिए पसंदीदा स्थान बनकर उभर रहा है। वर्ष 2017 में लगभग 12 लाख विदेशी पर्यटकों ने पवित्र गुरुद्वारा बंगला साहिब का भ्रमण करके पवित्र श्री गुरुगंथ को माथा टेका व अरदास की तथा प्रसाद स्वरूप लंगर ग्रहण किया, जबकि चालू वर्ष 2018 में पहले चार माह के दौरान लगभग छह लाख अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों ने पावन स्थल पर शीश नवाया।

दिल्ली के पर्यटक स्थलों पर किए गए सर्वे 2017 में गुरुद्वारा बंगला साहिब को राष्ट्रीय राजधानी में विदेशी पर्यटकों का सर्वाधिक पसंदीदा स्थल आंका गया है जहां अंतराष्ट्रीय पर्यटक स्वच्छ वातावरण में आत्मिक शांति, आध्यात्मिक अनुभूति तथा धार्मिक और ऐतिहासिक ज्ञानवर्धन के लिए एकत्रित होते हैं। सिखों के आठवें गुरु, गुरु हरकिशन साहिब जी से जुड़े गुरुद्वारा बंगला साहिब में विदेशी पर्यटकों की सुविधा तथा सहायकता के दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंध्क कमेटी ने एक सूचना केंन्द्र स्थापित किया है, जिसमें अतर्राष्ट्रीय भाषाओं के 7 माहिर पर्यटक गाईड तैनात किए है, जो कि विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं में विदेशी पर्यटकों केा इस ऐतिहासिक धार्मिक स्थल की सांस्कृतिक तथा ऐतिहासिक महत्व की जानकारी प्रदान करते हैं।

ज्यादातर विदेशी पर्यटक विभिनन ट्रेवल एजेंसियों के माध्यम से 15-25 के ग्रुप में धार्मिक स्थल का दौरा करते हैं, लेकिन शोध् एवं अनुसंधान के उद्देश्य से अनेक अंतराष्ट्रीय पर्यटक व्यक्तिगत रूप में सिख धर्म के विभन्न पहलुओं पर रिसर्च करने के लिए पावन स्थल का दौरा करते हैं। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जी. के. ने बताया कि विदेशी पर्यटकों को सिख धर्म के विभिन्न पहलुओं की विस्तृत जानकारी प्रदान कने के लिए कमेटी ने 10 अंतराष्ट्रीय भाषाओं में सिख साहित्य प्रकाशित किया है ताकि विदेशी पर्यटक अपनी मातृभाषा में सिख धर्म की जानकारी ग्रहण कर सके। उन्होंने बताया कि चालू वर्ष के दौरान अब तक लगभग एक लाख पुस्तकों का मुफ्त वितरण किया जा चुका है।

गुरुद्वारा बंगला साहिब में स्थित दिल्ली का पहला मल्टीमिडिया म्यूजियम अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को सिख धर्म की विस्तृत जानकारी प्रदान करने का सबसे सुगम तथा बड़ा स्त्रोत बन गया है। इस म्यूजियम में पेंटिंग डिजिटल टेक्नोलाॅजी, स्क्रीन भित्ति-चित्र, चित्रपट तथा विभिन्न भाषाओं के माध्यम से सिख धर्म के मूल सिद्धातों की जानकारी प्रदान की जाती है। इस संग्रहालय में 250 पेंटिंग से सुज्जित चार गैलरियों तथा 170 लोगों की क्षमता का एक छोटा आडिटोरियम है। इस संग्रहालय में सिख गुरुओं तथा सिख योद्धाओं के दर्शनशास्त्र तथा उपदेशों पर आधरित पांच मिनट की फिल्म दिखाई जाती है। गुरुद्वारा परिसर में स्थित सरोवर जल को अमृत मानते हैं और विश्व भर के सिख इसे अपने साथ ले जाते है।

Post a Comment

Your comment was successfully posted!

LOGIN TO E-SERVICES