Comments (0) | Like (19) | Blog View (123) | Share to:

मानसून में ट्रेवलिंग का लें आनंद

अगर आप मानसून के दौरान किसी अच्छी जगह पर घूमने के बारे में सोच रहे हैं तो उसकी प्लानिंग शुरू कर देनी चाहिए। बारिश के मौसम में पहाड़, पर्वत पूरी तरह से धुलकर हरे-भरे हो जाते हैं। झील और झरने पानी से लबालब हो जाते हैं और वाॅटरफाॅल्स देखने लायक होते हैं। ऐसे में आपको बता रहे हैं उन जगहों के बारे में जहां कम खर्च में मानसून ट्रैवल का पूरा मजा ले सकते हैं।

शिलाॅन्ग, मेघालय

भारत के बेस्ट माॅनसून डेस्टिनेशन्स में से एक है शिलाॅन्ग जहां बारिश के मौसम में सबसे ज्यादा और भारी बारिश होती है। खासी और जयंती की पहाड़ियों से घिरे शिलाॅन्ग की खूबसूरती देखते ही बनती है। आसपास मौजूद वाॅटरफाॅल्स और प्राकृतिक खूबसूरती इस जगह को और भी खूबसूरत बनाते हैं और टयूरिस्ट को एक बार यहां जरूर जाना चाहिए। नजदीकी रेलवे स्टेशन गुवाहाटी है है यहां से 100 किलोमीटर दूर है। रेलवे स्टेशन से टैक्सी के जरिए आसानी से शिलाॅन्ग पहुंच सकते हैं। ट्रेकिंग पसंद है तो डेविड स्काॅट ट्रे जाना न भूलें जो मेघालय का सबसे पुराना और सबसे प्रसिद्ध ट्रेकिंग रूट है।

लोनावला,महाराष्ट्र

अगर आप भी मुंबई में रहते हैं और बारिश के मौसम में घूमने की जगह जाने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको ज्यादा दूर जाने की जरूरत नहीं क्योंकि मुंबई के बिलकुल पास है लोनावला। सहयाद्री पर्वत श्रृंखला और पश्चिमी घाट बारिश के मौसम में हरियाली से भर जाते हैं। वाटरफाल्स की खूबसूरती देखने लायक होती है और मौसम भी खुशनुमा हो जाता है। ऐसे में मुंबई और पुणे जैसे शहरों के शोर और भीड़-भाड़ से दूर आप लोनावला आकर कुछ पल शांति और सुकून से बिता सकते हैं। मुंबई से लोनवाला की दूरी 83 किलोमीटर है जिसे 1 घंटे 45 मिनट में पूरा किया जा सकता है। पूणे से लोनावला की दूरी 67 किलोमीटर है जिसे 1 घंटे 30 मिनट में पूरा किया जा सकता है। लोनावला का अपना रेलवे स्टेशन भी है और ज्यादातर ट्रेने यहां आती हैं। टाइगर पाॅइंट से नीचे बहता झरना, बुद्धस्ट माॅन्क द्वारा बनाए गए कार्ला केव्स, बुशी डैम के पास स्थित पफेमस वाॅटरफाॅल दर्शनीय हैं।

कोडइकनाल, तमिलनाडु

हिल स्टेशन्स की राजकुमारी के नाम से प्रसिद्ध तमिलनाडु का कोडइकनाल भारत के बेस्ट मानसून डेस्टिनेशन्स में से एक है। पश्चिमी घाट के पलानी हिल्स में स्थिति कोडइकनाल में बेहद खूबसूरत वाॅटरफाॅल्स, झरने और हरियाली से भरपूर प्राकृतिक खूबसूरती है। नजदीकी एयरपोर्ट मदुरै है जो यहां से 135 किलोमीटर दूर है। कोयंबटूर 170 किलोमीटर जबकि बैंगलुरु से कोडइकनाल की दूरी 450 किलोमीटर है जिसे सड़क मार्ग से 9 घंटे में पूरा किया जा सकता है। नजदीकी रेलवे स्टेशन पलानी है जो यहंा से 64 किलोमीटर दूर है। कोडई लेक, बेरिजम लेक, पलानी हिल्स की प्राकृतिक खूबसूरती दर्शनीय है।

कुर्ग, कर्नाटक

अपने घने जंगलों, एक से बढ़कर एक वैरायटी वाले वनस्पति और जीव जंतुओं के लिए मशहूर कुर्ग मानसून के दौरान रोमांटिक डेस्टिनेशन बन जाता है। यहां के दिल मोह लेने वाले वाॅटरफाॅल्स, झरने, काॅफी प्लांटेशन और स्वादिष्ट खाना पर्यटकों को अपनी ओर खींच लेता है। बैंगलुरु से 270 किलोमीटर दूर है कुर्ग। अगर रोड ट्रिप का मजा उठाना चाहते हैं तो बैंगलुरु से 5 घंटे में कुर्ग पहुंच सकते हैं। नजदीकी एयरपोर्ट मैसूर है जो 120 किलोमीटर है और मैंगलोर 135 किलोमीटर। कुर्ग का अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। नजदीकी रेलवे स्टेशन मैसूर, मैंगलोर और हासन है। पुष्पगिरी वाइल्ड लाइफ सैचुरी में वाइल्डलाइफ का मजा लें, कोटेेबेटा में हाइकिंग करें और देश के दूसरे सबसे बड़े वाॅटरफाॅल्स जाॅग फाॅल्स को देखना ना भूलें।

उदयपुर, राजस्थान

यहां मौजूद पैलेसेज और बाजार अपने महाराजाओं के गौरवमयी इतिहास की गाथा सुनाता है और यहां पहुंचकर एक पल के लिए भी आपके अंदर से शाही फीलिंग नहीं जाएगी। मानसून के दौरान यह शहर और भी खूबसूरत दिखने लगता है क्योंकि बारिश के मौसम में आसपास हरियाली बढ़ जाती है और सिटी ऑफ लेक्स की सभी झीलें पानी से भर जाती हैं और इन्हें देखने का अनुभव ही कुछ अलग होता है। नजदीकी एयरपोर्ट दाबोक में हैं जो उदयपुर से 22 किलोमीटर दूर है। उदयपुर का अपना रेलवे स्टेशन भी है। इसके अलावा सड़क मार्ग से भी यह शहर देश के सभी बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है। लिहाजा उदयपुर जाने के लिए रोड ट्रिप भी प्लान कर सकते हैं। सिटी पैलेस, माॅनसून पैलेस, लेक पैलेस, फतेह सागर लेक आदि दर्शनीय स्थल है।

Post a Comment

Your comment was successfully posted!

LOGIN TO E-SERVICES