Comments (0) | Like (22) | Blog View (56) | Share to:

विपरीत परिस्थितियों को अवसरों में बदले

नींबू की मात्रा को आवश्यकता से लगभग पांच गुना अधिक मिला दिया। यह एक मुसीबत थी और इसे किसी भी तरह ठीक करना था। काश पानी से कुछ नींबू का रस निकाल पाते ताकि इसका स्वाद फिर से सही हो जाए। लेकिन अफसोस! कुछ चीजें कभी पूर्ववत नहीं की जा सकतीं और ना ही बदली जा सकती हैं। ऐसा कोई तरीका नहीं था जिससे अतिरिक्त नींबू निकालने के बारे में जान सकें। तब उसका समाधन क्या था? उसे ठीक करने का एकमात्र तरीका चार गिलास पानी और नींबू का रस पतला करके पांच गिलास ताजा नींबू पानी बनाना था। कभी-कभी हम कुछ चीजों को पूर्ववत नहीं कर सकते जो जीवन में गलत हो गई हैं। गलत निर्णय, गलत संगति, गलत शब्द या गलत कार्य कभी भी पूर्ववत नहीं किए जा सकते। यदि आप गलत को ठीक नहीं कर सकते, तो उस पर अधिक समय बर्बाद न करें। यह पानी से नींबू निकालने का प्रयास करने जैसा है। बजाय इसके अपने जीवन में उन सही चीजों से जुड़ने में व्यस्त हो जाएं। हम सभी का अपना एक नकारात्मक पक्ष होता है। हम अपनी सभी नकारात्मकताओं को दूर या ठीक करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं। लेकिन हम निश्चित रूप से सकारात्मक लोगों को अपने जीवन में जोड़ना जारी रख सकते हैं और नकारात्मकता को कम कर सकते हैं। हम सभी को कुछ आसान लोगों और कुछ मुश्किल लोगों से निपटना पड़ता है। नकारात्मक लोगों को बदलने की कोशिश में समय बर्बाद न करें। आप अपनी सारी भावनात्मक उर्जा व्यर्थ में गंवा देंगे। बजाय इसके सुखद, सकारात्मक, खुश और मुश्किल लोगों के साथ अधिक समय बिताने से आप पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

‘मुझे मदद चाहिए’ कोई कमजोरी नहीं है-बस इसके लिए पूंछें

मदद मांगना आसान नहीं है, लेकिन दिशा-निर्देश लेने की जरूरत है। व्यापार और नौकरी में कई बार, ऐसे मौके आते हैं जब हम सभी को मदद की जरूरत पड़ती है। तो अगर कुछ भी है, और आपको मदद की जरूरत है, बस दिशा-निर्देश मांगें, आपके पूछने के तुरंत बाद ही आपको अपना गंतव्य खोजने की अधिक संभावना है। अपने उद्यम की दुनिया में लोगों से मदद/मार्गदर्शन मांग कर आपको एक महान उद्यमी बनाता है। उनके अनुभव पर भरोसा करें। यह आपके व्यवसाय को बचाएगा और यह आपके साथ-साथ आपके लोगों का भी विकास करेगा।

एक सुंदर घटना है

प्रबंधक के पद के लिए दो उम्मीदवारों ने आवेदन किया था। भर्ती करने वाले ने उनसे एक अंतिम प्रश्न पूछा, जब आप प्रबंधक हों और अर्थव्यवस्था गिर जाए तो आप क्या करेंगें? पहले उम्मीदावार ने एक पल के लिए सोचा। वह एक दृढ़ और मजबूत छाप छोड़ना चाहता था। उसने कहा, मैं लागत में कटौती कर कम्पनी को बचाने के लिए कुछ भी करूंगा। दूसरे उम्मीदवार ने अपने घर के बारे में सोचा और उसे नौकरी क्यों चाहिए थी। उसने कहा, मुझे नहीं पता, पर मैं अपनी टीम से मदद मांगूगा और कहूंगा कि वे अपने अनुभव को बताए कि क्या किया जा सकता है। मैं ग्राहकों से भी उनकी राय लूंगा। भर्तीकर्ता मुस्कुराया। उन्होंने दोनों उम्मीदवारों को देखा और कहा, हम ऐसे लोगों की तलाश कर रहे हैं जो किसी भी स्थिति में अवसर ढूंढते हैं। उन्होंने दूसरा उम्मीदवार नियुक्त किया।

विपरीत परिस्थितियों को अवसरों में बदलें

विपरीत परिस्थितियों में, जब आप अपने भाग्य को कोसते हैं या दोष देते हैं तो याद रखें कि यदि आप अपने सपनों को साकार करने के लिए अपना मन बनाते हैं, तो कोई भी चीज आपको रोक नहीं सकती है। आपकी शुरुआत कितनी भी छोटी क्यों न हो, जीवन में कहीं न कही पहुंचने के लिए आपके पास आपका अपना स्वयं का साथ होता है।

एक प्रसंग है

दूध से उपर तक भरी एक बड़ी बाल्टी में दो चूहे गिरे। उनमें से एक ने तुरंत हार मान ली और मर गया। लेकिन दूसरे ने उस मौके का फायदा उठाते हुए दूध् को मक्खन में बदल दिया और अंत में बाल्टी से बाहर आ गया।

इस प्रकार पसंद आपकी है, जैसे कि आप क्या करना चाहते हैं। असफलता व्यक्ति को मजबूत बनाती है। हर बार जब आप असफलता का सामना करते हैं, तो आप कुछ नया सीखते हैं। इसलिए गिरते समय कुछ नया सीखने की प्रार्थना करते रहें ताकि आप अपनी क्षमताओं के बारे में नए बिंदु खोज सकें। इससे पहले कि कोई साइकिल चलाना सीखें, वे कई बार गिरते हैं और तब तक छोड़ने का फैसला नहीं करते जब तक कि वे इसे सही तरीके से नहीं कर लेते। जब तक वे साइकिल चलाने में सर्वश्रेष्ठ नहीं हो जाते, तब तक कठिन परिश्रम करते हैं। हैरी पाॅटर पुस्तक, अब तक की सबसे सपल पुस्तक श्रंखलाओं में से एक है, जो जे के राउलिंग की दृढ़ता को इंगित करता है। एक प्रकाशक द्वारा 12 अस्वीकृत पत्र मिलने के बाद कहानी को स्वीकृति मिली। सिर्फ इसलिए कि आप किसी चीज में असफल हो गए इसका मतलब यह नहीं है कि आप असफल हैं। हमें असफलता को अपना शिक्षक समझना चाहिए न कि प्रशासक। असफलता देरी का कारण बन सकती है लेकिन हार नहीं। यह एक अस्थायी है, एक मृत अंत नहीं। और असफल होना ही सफलता की सीढ़ी है। इस प्रकार, विफलता को सपफलता में बदलना पूरी तरह से संभव है। सफलता में उत्साह और गति के नुकसान के बिना असफलता से सफलता की ओर जाना शामिल है। इसी दृढ़ता और असफलता के बाद उठने की क्षमता ही आपके चरित्र को परिभाषित करती है।               

                                                                                                                                                                                                                                                क्रमशः...

Post a Comment

Your comment was successfully posted!

LOGIN TO E-SERVICES